'लादेन' की मौत


गोलापारा जिले में लोगों के दिलों में खौफ पैदा करने और जंगल में उत्पाद मचाने वाले हाथी 'लादेन' उर्फ कृष्णा की मौत हो गई है. असम के गोलपारा जिले में बीजेपी विधायक की मदद से एक हफ्ते पहले पकड़े गए जंगली हाथी लादेन की रविवार को मौत हो गई.


पिछले हफ्ते पकड़ा गया था हाथी 'लादेन'


असम के जंगलों में हाथी 'लादेन' ने उत्पाद मचा रखा था और कई लोगों की जान ले चुका था. जंगली हाथी की खोज में कई वन्‍य अधिकारी लगे हुए थे. जिसे पिछले हफ्ते बीजेपी विधायक पदम हजारिका के नेतृत्व में चलाए गए ड्रोन अभियान में पकड़ा गया था.


पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से मिलेगी मौत के कारण की जानकारी


वन विभाग के अधिकारियों ने उसे शांत करने के लिए 11 नवंबर को ट्रैंकुलाइज करने के बाद पकड़ लिया था और ओरांग नेशनल पार्क भेज दिया गया था. वन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक उसने रविवार सुबह दम तोड़ दिया. वन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही उसकी मौत का कारण पता चलेगा. वहीं कुछ लोगों का आरोप है कि वन विभाग की अनदेखी के चलते हाथी की मौत हुई है.


गोलापारा जिले में मचाया था उत्पात, दहशत में थे लोग


बता दें कि गोलपारा जिले के कई इलाकों में उत्पाती 'लादेन' हाथी ने पिछले कुछ महीनों में कई लोगों की जान ले ली थी. इस हाथी ने कई घर तोड़ दिए थे और खेतों की फसलों को भी भारी नुकसान पहुंचाया था. जिससे लोगों के दिलों में दहशत थी. लोगों का आरोप था कि वन विभाग के लोग उनकी मदद नहीं करते. जिसके बाद इस हाथी को पकड़ने के लिए ऑपरेशन चलाया गया था और पकड़े जाने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली थी.सरकारी आंकड़ों के मुताबिक असम में 2010 से अब तक संघर्ष में 700 लोगों की मौत चुकी है, जबकि 250 हाथी जान गवां चुके हैं.


Popular posts
युवा कांग्रेस देवास के साथियों द्वारा भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष  के  1 वर्ष का कार्यकाल पुर्ण होने पर कोरोना से बचने हेतु मास्क वितरण किए 
अशासकीय क्षेत्र के शिक्षकों की समस्याओं के लिए पीएमओ ने अधिकारी नियुक्त किया
प्रकृति का बचाव ही देश को आगे बढ़ाएगा - महापौर श्रीमती मीना विजय जोनवाल नगर निगम द्वारा नक्षत्र, राशि एवं ग्रहो पर आधारित वाटिका का निर्माण किया गया    
Image
4 लोगों ने मंदिर फिर छोड़ गए सोने-चांदी से भरा बैग
Image
संपत्ति कर एवं यूजर चार्जेस में छूट का पूरक प्रस्ताव प्रस्तुत करेगी पार्षद माया राजेश त्रिवेदी