"क्षत्रिय एकता"(कविता)

कब तक सोये रहोगे, सोने सेँ क्या हासिल हुआ,
व्यर्थ अपने वक्त को, खोने से क्या हासिल हुआ,
शान और शौकत हमारी जो कमाई वीरो नेँ,
वो जा रही , अब सिर्फ बैठेँ रहने से क्या हासिल हुआ,

सोती हुई राजपूती कौम को जगाना अब पडेगा,
गिर ना जाये गर्त मेँ "वीरो" को उठाना अब पडेगा,
बेड़िया "रूढिवादिता" की पडी हुई जो कौम मेँ,
उन सभी बेडियो को तोडना अब पडेगा,
संतान हैँ हम उन "वीरो" की वीरता है जिनकी पहचान,
तेज से दमकता मुख और चमकती तलवार है उनका निशान.
वीरता की श्रेणी मेँ "क्षत्रियो" का पहला हैँ नाम,
झूठला नही सकता जमाना, इतिहास है साक्षी प्रमाण,
प्रहार कर सके ना कोई अपनी आन-बाण-शान पर,
जाग जाओ अब ऐ "वीरो" अपने महाराणा के आवहान् पर,
शिक्षा और संस्कारो की अलख जगाते अब चलो,
कहे 'गोविन्द' राह से भटके "वीरो" को संग मिलाते अब चलो,
फूट पडने ना पाए अपनी कौम मेँ अब कभी,
"क्षत्रिय एकता" ऐसी करो के मिसाल दे हमारी सभी,
कोई कर सके ना कौम का अपनी उपहास,
आओ "एक" होकर रचे हम,
अपना "स्वर्णिँम" इतिहास ॥
"जय क्षात्र धर्म"

Popular posts
युवा कांग्रेस देवास के साथियों द्वारा भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष  के  1 वर्ष का कार्यकाल पुर्ण होने पर कोरोना से बचने हेतु मास्क वितरण किए 
अशासकीय क्षेत्र के शिक्षकों की समस्याओं के लिए पीएमओ ने अधिकारी नियुक्त किया
प्रकृति का बचाव ही देश को आगे बढ़ाएगा - महापौर श्रीमती मीना विजय जोनवाल नगर निगम द्वारा नक्षत्र, राशि एवं ग्रहो पर आधारित वाटिका का निर्माण किया गया    
Image
4 लोगों ने मंदिर फिर छोड़ गए सोने-चांदी से भरा बैग
Image
संपत्ति कर एवं यूजर चार्जेस में छूट का पूरक प्रस्ताव प्रस्तुत करेगी पार्षद माया राजेश त्रिवेदी