राजपुताना कविता


आग धधकती है सीने मे,


आँखोँ से अंगारे,


हम भी वंशज है राणा के,


कैसे रण हारे…?


कैसे कर विश्राम रुके हम…?


जब इतने कंटक हो,


राजपूत विश्राम करे क्योँ,


जब देश पर संकट हो.


अपनी खड्ग उठा लेते है,


बिन पल को हारे,


आग धधकती है सीने मे………..


सारे सुख को त्याग खडा है,


राजपूत युँ तनकर,


अपने सर की भेँट चढाने,


देशभक्त युँ बनकर..


बालक जैसे अपनी माँ के,


सारे कष्ट निवारे.


आग धधकती है सीने मे………..


Popular posts
मुन्नवर खाँ पठान बने संभागीय संगठन मंत्री
Image
प्रकृति का बचाव ही देश को आगे बढ़ाएगा - महापौर श्रीमती मीना विजय जोनवाल नगर निगम द्वारा नक्षत्र, राशि एवं ग्रहो पर आधारित वाटिका का निर्माण किया गया    
Image
युवा कांग्रेस देवास के साथियों द्वारा भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष  के  1 वर्ष का कार्यकाल पुर्ण होने पर कोरोना से बचने हेतु मास्क वितरण किए 
अशासकीय क्षेत्र के शिक्षकों की समस्याओं के लिए पीएमओ ने अधिकारी नियुक्त किया
संपत्ति कर एवं यूजर चार्जेस में छूट का पूरक प्रस्ताव प्रस्तुत करेगी पार्षद माया राजेश त्रिवेदी