जानिए कौन थीं महाराणा प्रताप की कुलदेवी


भारतीय इतिहास में वीरता के लिए प्रसिद्ध अमर नायक थे 'महाराणा प्रताप'। राजस्थान के कुम्भलगढ़ में महाराणा प्रताप का जन्म हुआ था। वह सिसोदिया राजवंश के महाराणा उदयसिंह एवं माता रानी जीवत कंवर के पुत्र थे।


महाराणा प्रताप की मां जीवत कंवर पाली के सोनगरा राजपूत अखैराज की पुत्री थीं। प्रताप का बचपन का नाम 'कीका' था। मेवाड़ के राणा उदयसिंह द्वितीय की 33 संतानें थीं। उनमें प्रताप सिंह सबसे बड़े थे। स्वाभिमान तथा धार्मिक आचरण उनकी विशेषता थी। प्रताप बचपन से ही बहादुर थे। बड़ा होने पर वे एक महापराक्रमी पुरुष बनेंगे, यह सभी जानते थे। सर्वसाधारण शिक्षा लेने से खेलकूद एवं हथियार बनाने की कला सीखने में उनकी रुचि अधिक थी।


इतिहास में उल्लेख मिलता है कि वर्ष 1576 में हल्दीघाटी के युद्ध के बाद मेवाड़ शासक इतिहास पुरुष महाराणा प्रताप ने विपत्ति के दिनों में सुंधा माता की शरण ली थी। सुंधा माता महाराणा प्रताप की कुलदेवी थीं। सुंधा माता मंदिर जालौर जिला मुख्यालय से करीब 105 किलोमीटर एवं भीनमाल उपखंड से 35 किलोमीटर दूर रानीवाड़ा तहसील के दांतलावास गांव के पास यह ऐतिहासिक एवं प्राचीन तीर्थस्थल है।


अरावली पर्वतमाला के इस पहाड़ का नाम सुंधा होने के कारण इस देवी को सुंधा माता के नाम से भी जाना जाता है। मां की प्रतिमा बिना धड़ के होने कारण इसे अधदेश्वरी भी कहा जाता है।


सुंधा माता मंदिर राजस्थान का वही स्थान है जहां देवी-देवताओं की खंडित मूर्ति को इस स्थान पर रख जाते हैं। सुंधा पर्वत का पौराणिक एवं ऐतिहासिक दृष्टि से भी कम महत्व नहीं है। त्रिपुर राक्षस का वध करने के लिए आदि देव की तपोभूमि यहीं मानी जाती है।


Popular posts
युवा कांग्रेस देवास के साथियों द्वारा भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष  के  1 वर्ष का कार्यकाल पुर्ण होने पर कोरोना से बचने हेतु मास्क वितरण किए 
अशासकीय क्षेत्र के शिक्षकों की समस्याओं के लिए पीएमओ ने अधिकारी नियुक्त किया
प्रकृति का बचाव ही देश को आगे बढ़ाएगा - महापौर श्रीमती मीना विजय जोनवाल नगर निगम द्वारा नक्षत्र, राशि एवं ग्रहो पर आधारित वाटिका का निर्माण किया गया    
Image
4 लोगों ने मंदिर फिर छोड़ गए सोने-चांदी से भरा बैग
Image
संपत्ति कर एवं यूजर चार्जेस में छूट का पूरक प्रस्ताव प्रस्तुत करेगी पार्षद माया राजेश त्रिवेदी