पाषाण की मूर्ति पानी में तेराई जाती है ,

आज मध्यप्रदेश के देवास जिले के हाटपिपलिया में भगवान नरसिंहजी की साढ़े 7 किलो वजन की पाषाण की मूर्ति पानी में तेराई जाती है , यह मूर्ति प्राचीन है और हर साल इस मूर्ति को पानी में तेराया जाता है और विशेषता यह है कि पानी कै बहाव के विपरीत बहती है ।एक कहावत है कि जितनी बार तेरे कि उतना साल अच्छा रहेगा एक बार तेरी 4 महीना दो बार तेरे की 8 महीना 3 बार तेरी की तो पूरे 12 महीना सुख और शांति से निकलेंगे ऐसी मान्यता है भारत देश ईश्वर की आस्था में विश्वास रखता है इसलिए ऐसे चमत्कार यहां देखने को मिलते हैं । जय हो भगवान नरसिंहजी की 


Popular posts
युवा कांग्रेस देवास के साथियों द्वारा भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष  के  1 वर्ष का कार्यकाल पुर्ण होने पर कोरोना से बचने हेतु मास्क वितरण किए 
अशासकीय क्षेत्र के शिक्षकों की समस्याओं के लिए पीएमओ ने अधिकारी नियुक्त किया
प्रकृति का बचाव ही देश को आगे बढ़ाएगा - महापौर श्रीमती मीना विजय जोनवाल नगर निगम द्वारा नक्षत्र, राशि एवं ग्रहो पर आधारित वाटिका का निर्माण किया गया    
Image
4 लोगों ने मंदिर फिर छोड़ गए सोने-चांदी से भरा बैग
Image
संपत्ति कर एवं यूजर चार्जेस में छूट का पूरक प्रस्ताव प्रस्तुत करेगी पार्षद माया राजेश त्रिवेदी